शंकराचार्य जयंती 2020: बेटे के संन्यास लेने के खिलाफ थी शंकराचार्य की मां, पढ़ें प्रचलित कथा

शंकराचार्य जयंती
Image Source : TWITTER/DIWEDIAVINASH

हिंदू पंचाग के अनुसार वैशाख माह की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को सनातन धर्म-संस्कृति में नवप्राण फूंकने वाले आदि शंकराचार्य का जन्म हुआ था। शंकराचार्य का जन्म केरल राज्य के कालड़ी में एक ब्राह्मण घर में हुआ था। इसी कारण 28 अप्रैल को शंकराचार्य जंयती मनाई जाती है। सनातम धर्म के महाग्रंथों की बात की जाए तो उनके अनुसार शंकराचार्य भगवान शिव का अवतार माने जाते हैं।

शंकराचार्य ऐसे एकलौते इंसान थे जिन्होंने 12वीं सदी पहले अपने जन्मस्थान केरल से पूरे भारत की यात्रा कर ली थी। इस यात्रा में बद्रीनाथ, केदारनाथ जैसे उच्च पर्वतीय क्षेत्र भी सम्मिलित है।  इसी महायात्रा के कारण शंकराचार्य को दिग्विजय भी कहा गया।

बचपन में ही ले लिया था सारे वेदों का ज्ञान

शंकराचार्य ने मात्र 7 साल की आयु में समस्त वेदों का ज्ञान हासिल कर लिया था और 12 साल की उम्र में शास्त्र के प्रकांड पंडित बन गए।  इसके साथ ही 16 साल की उम्र में शंकराचार्य ने शताधिक ग्रंथों की रचना कर डाली थी।

Related Post

आखिर क्यों भगवान परशुराम ने 21 बार किया पृथ्वी को क्षत्रिय विहीन, पढ़ें पौराणिक कथा

संन्यासी बनने के पीछे की पौराणिक कथा

आदि गुरु शंकराचार्य के जन्म के साथ-साथ उनके संन्यास लेने की कथा भी काफी रोचक है। पिता की अकाल मृत्यु होने से ही बचपन में ही शंकर के सिर से पिता का साया दूर हो गया। वहीं माता एक एकलौते पुत्र को संन्यास लेने की अनुमति नहीं दे रही थी। ऐसे में शंकराचार्य ने अपनी बुद्धि का इस्तेमाल करके मां को राजी कर लिया। तब एक दिन नदी किनारे एक मगरमच्छ ने शंकराचार्य जी का पैर पकड़ लिया तब इस वक्त का फायदा उठाते शंकराचार्य जी ने अपने मां से कहा – मां मुझे संन्यास लेने की आज्ञा दे दो नहीं तो यह मगरमच्छ मुझे खा जाएगा। शंकराचार्य की इस बात को सुनकर माता भयभीत हो गई और तुरंत इन्हें संन्यासी होने की आज्ञा प्रदान कर दी।

सनातन धर्म का संरक्षण करने के लिए आदि गुरु ने भारत के चारों कोनों में चार मठों की स्थापना की। ये पुरी मठ, श्रंगेरी,  शारदा मठ और ज्योतिर्मठ हैं, जो वर्तमान में जगन्नाथ पुरी, रामेश्वरम्,  द्वारिका और बद्रीनाथ में स्थित हैं। इन चार मठों की स्थापना के पश्चात सन 820 ई में आदि शंकराचार्य ने हिमालय में समाधि ले ली थी।

Share
Team TWS

Recent Posts

पूर्व भारतीय कोच गैरी कर्स्टन ने किया खुलासा, साल 2007 में ही संन्यास लेना चाहते थे सचिन

Sachin Tendulkar Image Source : GETTY IMAGES भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कोच गैरी कर्स्टन ने भारत के साथ अपने…

4 महीना ago

नए फॉर्मेट के साथ दक्षिण अफ्रीका में होगी क्रिकेट की वापसी, डिविलियर्स बनेंगे कप्तान

नए फॉर्मेट के साथ दक्षिण अफ्रीका में होगी क्रिकेट की वापसी, डिविलियर्स बनेंगे कप्तान Image Source : GETTY क्रिकेट दक्षिण…

4 महीना ago

अनुराग कश्यप ने की कोविड-19 के बाद के दौर में शूटिंग पर बात

अनुराग कश्यप Image Source : INSTAGRAM/ANURAGKASHYAP10 फिल्मकार अनुराग कश्यप को लगता है कि शूटिंग एक ऑर्गेनिक प्रोसेस है और इंडस्ट्री…

4 महीना ago

सुशांत के निधन के बाद कृति सेनन ने किया एक और पोस्ट, निगेटिव कमेंट्स करने वालों पर हुईं नाराज

सुशांत के निधन के बाद कृति सेनन ने किया एक और पोस्ट Image Source : INSTAGRAM- KRITI SANON मुंबई: सुशांत…

4 महीना ago

भारतीय सैनिकों के मारे जाने के विरोध में चीनी दूतावास के पास पूर्व सैनिकों का प्रदर्शन

भारतीय सैनिकों के मारे जाने के विरोध में चीनी दूतावास के पास पूर्व सैनिकों का प्रदर्शन Image Source : SOCIAL…

4 महीना ago

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीन के विदेश मंत्री से की बात: सूत्र

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीन के विदेश मंत्री से की बात: सूत्र Image Source : PTI (FILE) नई दिल्ली:…

4 महीना ago