Categories: विदेश

कोरोना वायरस: चीन पर लगातार हमला बोल रहे हैं अमेरिका के नेता, अब पोम्पियो ने दिया बड़ा बयान

China rebuffed US efforts to contain coronavirus, says Mike Pompeo | AP File

वॉशिंगटन: कोरोना वायरस से जूझ रहे अमेरिका के नेता चीन पर लगातार हमला बोल रहे हैं। इसी कड़ी में अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने आरोप लगाया कि चीन ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने में मदद के लिए इस संक्रामक रोग के केंद्र रहे वुहान में विशेषज्ञों को भेजने की अमेरिका की कोशिशों को ‘खारिज’ कर दिया है। बता दें कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना वायरस के प्रसार के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराया था और कहा था कि उसकी वजह से दुनिया के 184 देश नरक जैसे हालात से गुजर रहे हैं।

पोम्पियो ने मंगलवार को एक बयान में कहा, ‘राष्ट्रपति और उनके प्रशासन ने अमेरिकियों को चीन में जमीनी हालात का जायजा लेने के लिए भेजने के वास्ते पूरी लगन के साथ काम किया ताकि विश्व स्वास्थ्य संगठन की भी वहां जाने की कोशिश में मदद की जाए। हमें इनकार कर दिया गया। चीन की सरकार यह होने नहीं देगी, निश्चित तौर पर यह पारदर्शिता के विपरीत है। उन्होंने अमेरिकी पत्रकारों को बाहर निकाल दिया और उस समय वहां अमेरिकियों तथा अन्य पश्चिमी वैज्ञानिकों को भेजने से इनकार कर दिया है जब स्थिति बहुत गंभीर थी।’

Related Post

अमेरिकी अधिकारी चीन की यात्रा करने वाले WHO के विशेषज्ञ प्रतिनिधि दल का हिस्सा थे। विदेश विभाग के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘वहां पहुंचने पर प्रतिनिधिमंडल कई स्थानों पर समूहों में गया लेकिन वुहान जाने वाले लोगों में अमेरिकी शामिल नहीं थे। जैसा कि विदेश मंत्री पोम्पियो ने लगातार कहा है कि अमेरिका बहुपक्षीय संगठनों का समर्थन करता है। हम इस पर जोर देते हैं कि वे अपने अभियानों को पूरा करें जिसमें पूर्ण रूप से पारदर्शिता बरतना और सूचना साझा करना तथा सच बोलने की इच्छा तथा सदस्य देशों को जवाबदेह ठहराना शामिल है।’

अमेरिका ने डब्ल्यूएचओ को वित्त वर्ष 2019 में 40 करोड़ डॉलर दिए थे। उन्होंने कहा, ‘वित्त वर्ष 2020 अब भी चल रहा है। मौजूदा 60-90 दिनों की रोक और नए वित्त पोषण की समीक्षा से पहले के वित्त पोषण पर कोई असर नहीं पड़ा है।’ इस बीच, सीनेटर क्रिस मर्फी और एड मार्की ने मंगलवार को पोम्पियो से उन सवालों का जवाब मांगा कि चीन में अहम जन स्वास्थ्य संबंधी पदों को क्यों खत्म कर दिया गया और वुहान विषाणुविज्ञान संस्थान की सुरक्षा की चेतावनियों को गंभीरता से क्यों नहीं लिया गया। दोनों अमेरिकी सीनेट की विदेश मामलों की समिति के सदस्य हैं।

Share
Durgesh Sahu

Recent Posts

पूर्व भारतीय कोच गैरी कर्स्टन ने किया खुलासा, साल 2007 में ही संन्यास लेना चाहते थे सचिन

Sachin Tendulkar Image Source : GETTY IMAGES भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कोच गैरी कर्स्टन ने भारत के साथ अपने…

4 महीना ago

नए फॉर्मेट के साथ दक्षिण अफ्रीका में होगी क्रिकेट की वापसी, डिविलियर्स बनेंगे कप्तान

नए फॉर्मेट के साथ दक्षिण अफ्रीका में होगी क्रिकेट की वापसी, डिविलियर्स बनेंगे कप्तान Image Source : GETTY क्रिकेट दक्षिण…

4 महीना ago

अनुराग कश्यप ने की कोविड-19 के बाद के दौर में शूटिंग पर बात

अनुराग कश्यप Image Source : INSTAGRAM/ANURAGKASHYAP10 फिल्मकार अनुराग कश्यप को लगता है कि शूटिंग एक ऑर्गेनिक प्रोसेस है और इंडस्ट्री…

4 महीना ago

सुशांत के निधन के बाद कृति सेनन ने किया एक और पोस्ट, निगेटिव कमेंट्स करने वालों पर हुईं नाराज

सुशांत के निधन के बाद कृति सेनन ने किया एक और पोस्ट Image Source : INSTAGRAM- KRITI SANON मुंबई: सुशांत…

4 महीना ago

भारतीय सैनिकों के मारे जाने के विरोध में चीनी दूतावास के पास पूर्व सैनिकों का प्रदर्शन

भारतीय सैनिकों के मारे जाने के विरोध में चीनी दूतावास के पास पूर्व सैनिकों का प्रदर्शन Image Source : SOCIAL…

4 महीना ago

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीन के विदेश मंत्री से की बात: सूत्र

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीन के विदेश मंत्री से की बात: सूत्र Image Source : PTI (FILE) नई दिल्ली:…

4 महीना ago