Categories: विदेश

चीनी विदेश मंत्रालय का बड़ा बयान, सैन्य और राजनयिक रास्ते से नजदीकी संपर्क में हैं भारत और चीन

Chinese FM Spokeperson
Image Source : TWITTER

चीन के विदेश मंत्रालय ने गलवान घाटी में हुए संघर्ष के बीच चीन ने भारत पर गंभीर आरोप लगाए हैं। चीनी विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करते हुए कहा है कि गलवान घाटी चीन का हिस्सा है और भारतीय सेना के साथ जो संघर्ष हुआ है वह चीन का हिस्सा है। चीन के सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स ने विदेश मंत्री के हवाले से कहा कि चीन और भारत मतभेद दूर करने के लिए सैन्य और राजनयिक रास्ते से नजदीकी संपर्क में हैं। बता दें कि सोमवार रात एलएसी पर मौजूद गलवान घाटी में भारत और चीन सेना के बीच खूनी संघर्ष हुआ, जिसमें 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे।


चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने बयान जारी कर भारत पर आरोप लगाया कि गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच जो संघर्ष हुआ वह हिस्सा चीन का है। भारत ने सहमति का उल्लंघन किया है। चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा कि चीन ने भारत से तनाव खत्म करने की कोशिश की। भारतीय सेना कभी इधर कभी उधर की स्थिति में थी। चीन ने कहा कि हम और झड़प नहीं चाहते। चीन के विदेश मंत्री ने कहा कि भारत और चीन मतभेद दूर करने के लिए सैन्य और राजनयिक रास्ते से नजदीकी संपर्क में हैं।

चीनी विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा इस घटना के बाद चीन और भारत दोनों ने कहा है ​कि हम संवाद के जरिए विवाद को सुलझाने और बॉर्डर के इलाके में शांति की रक्षा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। दुनिया के दो सबसे बड़े विका​सशील देशों और उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं के साझे हित विवाद से कहीं बड़े हैं। हम कूटनीतिक और मिलिट्री चैनल के जरिए संवाद कर रहे हैं। इस मामले में सही और गलत बिल्कुल साफ है, ये घटना वास्तविक नियंत्रण रेखा के चीन की तरफ हुई और इसके लिए चीन को दोष नहीं देना चाहिए।

Related Post

फिर बातचीत की मेज पर भारत चीन

भारत और चीन के सैनिकों के बीच सोमवार रात हुई खूनी झड़प के बाद एक बाद फिर दोनों देशों ने माहौल में नरमी लाने के संकेत दिए हैं। दोनों देश एक बार फिर बातचीत के लिए तैयार हो गए हैं। माना जा रहा है कि थोड़ी देर में गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच मेजर जनरल के अधिकारी स्तर की बातचीत शुरू हो सकती है। प्राप्त जानकारी के अनुसार भारत की ओर से 3 डिवीजन के जनरल आफ कमांड मेजर जनरल बपिता भारत की ओर से बैठक का प्रतिनिधित्व करेंगे।

सेना को मिली इमरजेंसी पावर

सेना के सूत्रों के अनुसार भारत की पूरी कोशिश है कि वह सीमा पर डटे चीनी सैनिकों को भारतीय सेना की मजबूती का प्रदर्शन करे।  यही ध्यान में रखते हुए सेना को ‘इमरजेंसी पावर’ दे दी गई है। सरकार ने मौजूदा परिस्थिति के अनुसार सीमा पर सैनिकों और हथियारों की मौजूदगी का पूरा अधिकार दे दिया है। माना जा रहा है कि सीमा पर सैनिकों की अधिक मौजूदगी के बाद ही बातचीत की मेज पर भारत का पलड़ा चीन के बराबर हो सकता है।

Share
Durgesh Sahu

Recent Posts

पूर्व भारतीय कोच गैरी कर्स्टन ने किया खुलासा, साल 2007 में ही संन्यास लेना चाहते थे सचिन

Sachin Tendulkar Image Source : GETTY IMAGES भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कोच गैरी कर्स्टन ने भारत के साथ अपने…

3 महीना ago

नए फॉर्मेट के साथ दक्षिण अफ्रीका में होगी क्रिकेट की वापसी, डिविलियर्स बनेंगे कप्तान

नए फॉर्मेट के साथ दक्षिण अफ्रीका में होगी क्रिकेट की वापसी, डिविलियर्स बनेंगे कप्तान Image Source : GETTY क्रिकेट दक्षिण…

3 महीना ago

अनुराग कश्यप ने की कोविड-19 के बाद के दौर में शूटिंग पर बात

अनुराग कश्यप Image Source : INSTAGRAM/ANURAGKASHYAP10 फिल्मकार अनुराग कश्यप को लगता है कि शूटिंग एक ऑर्गेनिक प्रोसेस है और इंडस्ट्री…

3 महीना ago

सुशांत के निधन के बाद कृति सेनन ने किया एक और पोस्ट, निगेटिव कमेंट्स करने वालों पर हुईं नाराज

सुशांत के निधन के बाद कृति सेनन ने किया एक और पोस्ट Image Source : INSTAGRAM- KRITI SANON मुंबई: सुशांत…

3 महीना ago

भारतीय सैनिकों के मारे जाने के विरोध में चीनी दूतावास के पास पूर्व सैनिकों का प्रदर्शन

भारतीय सैनिकों के मारे जाने के विरोध में चीनी दूतावास के पास पूर्व सैनिकों का प्रदर्शन Image Source : SOCIAL…

3 महीना ago

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीन के विदेश मंत्री से की बात: सूत्र

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीन के विदेश मंत्री से की बात: सूत्र Image Source : PTI (FILE) नई दिल्ली:…

3 महीना ago